जिलाधिकारी (डीएम) : जिलाधिकारी ने किसानों को फसल काटने का सही तरीका बताया

पराली जलाए जाने के कारण हर साल दिल्ली एनसीआर के लोगों को मुश्किलों से जूझना पड़ता है | पराली जलाए जाने के कारण आसमान में छाई धुंध के कारण लोगों का सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है | शासन-प्रशासन की ओर से दावे तो बहुत किए जाते हैं, लेकिन हर साल हालात ऐसे ही रहते हैं| बढ़ते प्रदूषण को लेकर गाजियाबाद जिला प्रशासन ने जीआरएपी सिस्टम (ग्रेडेड रेस्पॉन्स एक्शन प्लान) लागू किया है | पराली को लेकर गाजियाबाद जिला प्रशासन अलर्ट मोड में आ गया है |

जिला प्रशासन ने मुरादनगर के भिक्कनपुर गांव में गोष्ठी आयोजित कर किसानों को पराली न जलाने के लिए जागरूक किया | किसानों को पराली जलाने के नुकसान की जानकारी दी गई और न जलाने के फायदे भी बताए गए | इस दौरान गाजियाबाद के जिलाधिकारी (डीएम) अजय शंकर पांडेय ने खुद फसल काटकर यह समझाया कि कैसे काटने पर पराली जलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी |
जिलाधिकारी ने किसानों को फसल काटने का सही तरीका बताया और कहा कि इससे खेत में कम से कम पराली बचेगी, जिसे जलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी | उन्होंने यह बताया कि जब खेतों में फसल के छोटे अवशेष बचेंगे तो वो जुताई के दौरान मिट्टी में दब जाएंगे और खुद ही खाद में तब्दील हो जाएंगे | इससे पराली जलाने से बचा जा सकेगा और प्रदूषण के स्तर को भी नियंत्रित रखा जा सकेगा| डीएम ने कहा कि पराली का इस्तेमाल पशुओं के चारे के लिए किए जाने का प्रयास हो |
डीएम ने कहा कि जिला प्रशासन की पूरी कोशिश रहेगी कि प्रदूषण के स्तर को नियंत्रित किया जा सके| उन्होंने कहा कि हाल ही में पराली जलाने वाले किसानों के साथ ही संबंधित अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई थी| डीएम ने कहा कि प्रशासन की पूरी कोशिश रहेगी कि जिले में पराली जलाने की घटनाएं न होने दी जाएं| डीएम अजय शंकर पांडेय के इस अनूठे अंदाज की लोग भी तारीफ कर रहे हैं|

316

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *