महाशिवरात्रि पर सनातन संस्था द्वारा आयोजित ग्रंथ-प्रदर्शनी का जिज्ञासुओ ने लाभ लिया !

 

दिल्ली, फरीदाबाद, नोएडा व मथुरा* में महाशिवरात्रि पर सनातन द्वारा आध्यात्मिक ग्रंथ-प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। दिसम्बर 2021 तक सनातन के 350 ग्रन्थों की हिन्दी, मराठी, अंग्रेजी, गुजराती, कन्नड, तमिल, तेलुगु, मलयालम, बांग्ला, ओडिया, पंजाबी, असमिया, सर्बियन, जर्मन, नेपाली, स्पैनिश, फ्रांसीसी, इन 17 भाषाओं में 84 लाख 73 सहस्र प्रतियां  प्रकाशित हो चुकी हैं।

सनातन के सात्त्विक साहित्य-सामग्री एवं सात्त्विक उत्पाद भी इस प्रदर्शनी पर विशेष रूप से उपलब्ध रहे । भगवान शिव की विशेषताएं, शिवोपासना की विधि, शिवपिंडी के प्रकार, शिव पर बेलपत्र चढाने का महत्त्व, रुद्राक्ष का महत्त्व, शिव के नामों का आध्यात्मिक अर्थ, शिव के शरीर पर स्थित नौ नागों का अर्थ, तांडव नृत्य के प्रकार और नटराज रूप के विषय में जानकारी दी गयी । शिवोपासना की उचित पद्धति क्या है, शिव की सात्त्विक नामजप-पट्टियां, सात्त्विक चित्र आदि भी उपलब्ध रहें । जिज्ञासुओ ने सनातन ग्रंथ प्रदर्शनी कक्ष पर पधारकर, भगवान शिव के विषय में धर्मशास्त्रीय जानकारी समझ कर ली और महाशिवरात्रि पर उचित साधना कर आध्यात्मिक लाभ प्राप्त कैसे करे, यह जानकारी सनातन संस्था की ओर से दी गयी ।

नई दिल्ली में प्राचीन शिव मंदिर, कनॉट प्लेस व सनातन धर्म मन्दिर, ग्रेटर कैलाश 2, नोएडा में सनातन धर्म मंदिर, सेक्टर 41, फरीदाबाद में श्री शिव मंदिर, एन एच 5 व श्री शिवशक्ति मंदिर, सेक्टर 28 तथा मथुरा में शिवाशेस्वर महादेव मंदिर परिसर, श्री जी शिवाशा स्टेट, गोवर्धन रोड व गर्तेश्वर मंदिर, गोविंद नगर मे ग्रन्थ प्रदर्शनी का आयोजन किया गया I

ग्रंथ-प्रदर्शनी में सनातन की शास्त्रीय परिभाषा में लिखी अद्भुत और अद्वितीय ग्रंथ संपदा का लाभ जिज्ञासुओं ने लिया और इस प्रदर्शनी को उत्तम प्रतिसाद मिला।

 

166

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *