राजनीतिक स्वार्थ में संलिप्त अरविंद केजरीवाल को दिल्ली का मुख्यमंत्री बने रहने का कोई अधिकार नहीं है-आदेश गुप्ता

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने आज श्मन की बातश् कार्यक्रम के माध्यम से देशवासियों को संबोधित किया। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री आदेश गुप्ता ने किशनगंज के बाबा बालक नाथ मंदिर से मोदी जी की मन की बात कार्यक्रम को सुना। इस अवसर पर उत्तरी दिल्ली नगर निगम महापौर श्री जय प्रकाश, प्रदेश मीडिया प्रमुख श्री अशोक गोयल देवराहा, जिलाध्यक्ष श्री अरविंद गर्ग, जिला महामंत्री श्री अजय भारद्वाज, पूर्व महामंत्री श्री प्रवीण जैन, मंडल अध्यक्ष श्री जनक राज शर्मा व अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

श्री आदेश गुप्ता ने बताया कि यह मन की बात देश के मन की बात होती है माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी देशवासियों के सामने रखते हैं। आज मन की बात कार्यक्रम में मोदी जी ने कहा कि लॉकडाउन से सफलतापूर्वक बाहर निकलकर अब देश अनलॉक हो रहा है। हमें कोरोना को हराना है और अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाना और ताकत देना है। भारत का भाव बंधुता है, हम इन्हीं आदर्शों के साथ आगे बढ़ते रहेंगे। भारत, मित्रता निभाना जानता है तो आंख में आंख डालकर देखना और उचित जवाब देना भी जानता है। देश के एक बड़े हिस्से में अब मानसून पहुंच चुका है और बारिश अच्छी होगी तो हमारे किसानों की फसलें अच्छी होंगी, वातावरण भी हरा-भरा होगा। साइक्लोन, भूकंप और टिड्डी दल के हमले को लेकर मोदी जी ने कहा कि हम एक साथ इतनी सारी आपदाओं से निपट रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक नागरिक के तौर पर हम सबका संकल्प, समर्पण और सहयोग बहुत जरूरी है। वर्षों से हमारा खनन क्षेत्र लॉकडाउन में था और अब वाणिज्यिक नीलामी को मंजूरी देने के एक निर्णय ने स्थिति को पूरी तरह से बदल दिया है। किसानों को अधिक ऋण मिलना भी सुनिश्चित हुआ है। कोविड-19 की चुनौती से निपटने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने के लिए अदरक, हल्दी समेत अन्य मसालों की मांग एशिया ही नहीं अमेरिका में भी बढ़ गई है। मोदी जी ने बच्चों से कहा कि आप उनसे जरूर पूछिए कि बचपन में उनका रहन-सहन कैसा था, वो कौन से खेल खेलते थे, कभी नाटक देखने जाते थे, कभी खेत-खलियान में जाते थे, त्योहार कैसे मानते थे, बहुत सी बातें आप उनको पूछ सकते हैं, इस सबसे आपको सीखने को भी मिलेगा।

इस अवसर पर केजरीवाल सरकार पर हमला बोलते हुए श्री गुप्ता ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खुद स्वीकार किया है कि कोविड-19 मरीजों के लिए दिल्ली के अस्पतालों में बेड की कमी के कारण बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़ी। उन्होंने कहा कि प्रारंभ से ही मुख्यमंत्री केजरीवाल ने यह रट लगा रखी थी कि उन्होंने कोविड-19 मरीजों के लिए 30,000 पर्याप्त बेड का इंतजाम कर रखा है लेकिन वास्तविकता यह है कि जब मरीजों को बेड की जरूरत पड़ी तो वह बेड अदृश्य हो गए। यह बहुत ही दुखद है कि मुख्यमंत्री होकर भी अरविंद केजरीवाल ने कोरोना से निपटने की तैयारियों को लेकर दिल्ली के लोगों को धोखे में रखा जिसके कारण कई लोगों ने अपनी जान गंवा दी। आज दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले 77,240 है वहीं मरने वालों की संख्या 2492 है। राजनीतिक स्वार्थ में संलिप्त अरविंद केजरीवाल को दिल्ली का मुख्यमंत्री बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।

श्री गुप्ता ने कहा कि मोदी सरकार के हस्तक्षेप के बाद दिल्ली की स्थिति में सुधार आया है वरना केजरीवाल सरकार ने तो जनता से मुँह ही मोड़ लिया था। इसी कारण से गृह मंत्री श्री अमित शाह जी ने दिल्ली की कमान संभाली और दिल्ली के लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करवाई। टेस्टिंग के रेट आधे करने से लेकर निजी अस्पतालों की मनमानी पर लगाम लगाई गई, कंटेनमेंट जोन के घरों की मैपिंग शुरू हुई। नए टेस्टिंग सेंटर बनाए गए जहां प्रतिदिन 20 हजार के करीब लोगों की टेस्टिंग की जा रही है, रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की शुरुआत की गई जिसके तहत 6 लाख लोगों की मुफ्त में टेस्टिंग की जाएगी। 14 जून को दिल्ली में कुल 9,937 बेड्स उपलब्ध थे। आज मोदी सरकार के प्रयासों से दिल्ली में लगभग 30 हजार बेड्स की व्यवस्था हो चुकी है। रेल कोच में 8,000 बेड बन चुके हैं। डीआरडीओ एक विशेष अस्पताल बना रही है जिसमें 250 आईसीयू बेड वेंटिलेटर के साथ उपलब्ध होंगे। राधा स्वामी सत्संग न्यास के कैंपस में 10,000 बेड का अस्पताल बनाया जा चुका है और 10,000 बेड की क्षमता वाला सरदार बल्लभ भाई कोविड केयर अस्पताल भी बनकर तैयार है।

49

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *