नागरिकता संसोधन कानून को लोग पढ़ नहीं रहे हैं सिर्फ अफवाहों के पीछे भाग रहे हैं जो दुखद है – मनोज तिवारी

अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने के ऐतिहासिक फैसले के बाद प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को धन्यावद करने के लिए दिल्ली भाजपा द्वारा 22 दिसंबर को होने वाली विशाल रैली के बारे में बताने और अनधिकृत कॉलोनियों के नियमित होने के बाद मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जागरूक करने के लिए आज 1731 अनधिकृत कॉलोनियों में नुक्कड़ सभाओं का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के नेताओं को चुनौती दी नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में अफवाह फैलाकर अशांति न फैलायें क्योंकि यह कानून शरणार्थियों को नागरिकता देने का है किसी के भी अधिकार को छीनने का नहीं है। सीलमपुर की घटना को लेकर 15 लोगों पर मामले दर्ज हुये हैं जिसमें से 5 आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के नेताओं के नाम हैं। इससे स्पष्ट होता है कि दिल्ली की शांति को भंग करने का काम दोनों पार्टियां मिलकर कर रही हैं। लोकतंत्र को सभी को अपनी बात करने का हक है लेकिन हिंसा के लिये समाज में कोई जगह नहीं है। नागरिकता संशोधन कानून को लोग पढ़ नहीं रहे हैं सिर्फ अफवाहों के पीछे भाग रहे हैं जो दुखद है और जिसका फायदा आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के लोग उठा रहे हैं और आग में घी डालकर माहौल को बिगाड़ने में जुटे हुये हैं।

तिवारी ने कहा अनधिकृत कॉलोनियों के मामले में केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के लोगों को हमेशा गुमराह किया है। केंद्र की भाजपा सरकार ने अनधिकृत कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को उनका मालिकाना हक देने का काम किया और अब लोगों के रजिस्ट्रेशन में मदद करने के लिए भाजपा कार्यकर्ता लगातार अनधिकृत कालोनियों के लोगों से मिलकर काम कर रहे हैं। डीडीए ने रजिस्ट्रेशन के लिए 50 कैंप लगाये हंै जहां भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहते हैं ताकि लोगों की सहायता कर सके लेकिन दिल्ली सरकार इस मामले में कोई कदम नहीं उठा रही है। मुख्यमंत्री केजरीवाल खुद तो दिल्ली के लोगों के लिए कुछ नहीं करते और केंद्र सरकार के जनकल्याणकारी योजनाओं से भी लोगों को वंचित रखते हैं। अगर किसी बैठक में गरीबों को घर दिलाने का मुद्दा उठाया जाता तो वो बैठक बीच में ही छोड़कर चले जाते हैं।

इस अवसर ने कहा कि पूर्व महापौर श्री हर्ष मल्होत्रा ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री पिछले 58 महीने से आराम कर रहे थे और अब विधानसभा चुनाव का समय नजदीक आने पर दिल्ली के लोगों को झूठे वादों और घोषणाओं के जरिए बरगलाने की कोशिश में लग गए हैं। मुख्यमंत्री केजरीवाल को गलतबयानी करने और निराधार दावे करने की आदत पड़ गई है। गरीबों का हिमायती होने का दिखावा करने वाली आम आदमी पार्टी सरकार ने हमेशा अनधिकृत कॉलोनी और झुग्गी-झोपड़ियों के निवासियों की अनदेखी की है। ये प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के संकल्प का ही परिणाम है कि आम आदमी पार्टी द्वारा बार-बार बाधाएं उत्पन्न करने के बाद भी अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने का फैसला हो सका है। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों का भरोसा खो दिया है।

187

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *